Lead A Balanced Life – Hindi Article

जीवन में संतुलित स्थिति प्राप्त करें प्रत्येक मनुष्य के शरीर में जन्म से ही एक सूक्ष्म तंत्र होता है। जिसमें तीन नाड़ियां,सात चक्र और परमात्मा की दी हुई शक्ति विद्यमान है।परमात्मा की यही शक्ति जो कि कुंडलिनी शक्ति के नाम से जानी जाती है – हमारी रीढ़ की हड्डी के सबसे निचले भाग में सुप्त […]

Continue Reading

Kundalini Awakening – Article in Hindi

कुंडलिनी शब्द संस्कृत के कुण्डल शब्द से उत्पन्न है,अर्थात कुंडल में है। कुंडलिनी शक्ति रीड की हड्डी के नीचे त्रिकोण आकार अस्थि में साढ़े तीन कुंडलों में सुप्तावस्था में स्थित होती है। संत ज्ञानेश्वर ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ज्ञानेश्वरी के छठे अध्याय में कुण्डलिनी का वर्णन किया।उन्होंने लिखा कुंडलिनी महानतम शक्तियों में से एक है। […]

Continue Reading